Today Vistiors Traffic is 60285

Rudraksh Aawaj

दिल्ली(एजेंसी)। भारतीय रेल को कोरोना काल में हो रहे नुकसान से उबरने में लंबा समय लग सकता है। इस दौरान उसके यात्री राजस्व में भारी कमी आई है। हालांकि माल भाड़ा में वह कुछ लाभ अर्जित कर सकती है। अगले साल रेलवे को बड़ी संख्या में नई नियुक्तियां भी जारी करनी है और उसकी कई भारी-भरकम परियोजनाएं भी आगे बढ़नी है। ऐसे में मंत्रालय को अगले बजट में ज्यादा आवंटन की दरकार होगी।

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ विनोद कुमार यादव का कहना है कि कोरोना काल के शुरू के चार महीनों अप्रैल-मई-जून-जुलाई में हुए नुकसान के बावजूद माल भाड़ा लदान में पिछले साल की तुलना में रेलवे 97 फीसदी तक पहुंच गया है। अगले तीन महीनों में रेलवे को बीते साल से ज्यादा माल भाड़ा लदान और राजस्व अर्जित करने का अनुमान है। अभी तक के आंकड़ों के अनुसार उसे राजस्व में 9000 करोड़ रुपए का नुकसान हो रहा है।

 

रेलवे को सबसे ज्यादा झटका यात्री राजस्व में लगा है। जहां उसकी तमाम ट्रेनों के लंबे समय तक बंद रहने से घाटा हो रहा है। पिछले साल रेलवे ने यात्री राजस्व 53 हजार करोड़ रुपए अर्जित किया था, जबकि अभी तक यह महज 4600 करोड़ रुपए ही है। यह लगभग 86 फीसदी कम है। हालांकि साल के अंत तक इसके 15000 करोड़ रुपए तक होने का अनुमान है तब भी यह बीते साल की तुलना में 28 से 29 फीसद ही हो पाएगा और लगभग 70 फीसद का घाटा रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *