Today Vistiors Traffic is 60285

Rudraksh Aawaj

भीड़ की कोई शक्ल नहीं होती. मगर बिना शक्ल वाली भीड़ को नेताओं की शक्ल ज़रूर मिल जाती है. दिल्ली के उस हिस्से में शनिवार तक सब ठीक था. मगर फिर एक नेता अचानक सीन में आता है और पुलिस के आला अफसर के सामने धमकी देता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के भारत छोड़ने तक अगर प्रदर्शनकारियों ने रास्ता नहीं खोला तो ठीक नहीं होगा और उसके बाद सचमुच कुछ ठीक नहीं होता.
लोग गिनती गिनवा रहे थे कि कितने हिंदू मरे, कितने मुसलमान मरे. कोई ये नहीं बता रहा था कि कितने इंसान मरे. वैसे लोगों का क्या, जब शहर का कोतवाल ही नदारद हो और कोतवाल के लोग जलता और उबलता इलाका छोड़ कर गायब हो जाएं तो लाशें ही तो गिनने के लिए रह जाती हैं. तीन दिन से उत्तर-पूर्वी दिल्ली का एक बड़ा इलाका सुलग रहा है, जल रहा है, मर रहा है पर कमाल है जो दिल्ली के पुलिस कमिश्नर जो कुछ करते नज़र आ जाएं.

दिल्ली के मौजपुर, घोंडा चौक, करावल नगर, जाफराबाद समेत कई इलाके तीन दिन से दंगों की आग में जल रहे हैं. लोग मर रहे हैं. दिल्ली पुलिस तमाशा देख कर रही है. जैसे वो चाहती हो कि हिंसा होनी चाहिए. ये सब हुआ इंसानों की बस्ती में. चांद सितारों की बातें करने वाले हम इंसानों को जंगल छोड़ कर अपनी बस्ती में आए सदियों हो गए. पर ये सदियां भी हमें हमारे उस जंगल राज को भुलाने में कम पड़ गईं. तभी तो हम इंसान अपनी ही बस्ती को जब-तब जंगल में बदल कर खुद जंगली बन जाते हैं. ये तस्वीरें उसी जंगलीपन की गवाह हैं.

दरअसल, इस जंगल राज के जिम्मेदार सिर्फ वो लोग नहीं हैं, जो कानून को तमाशा और इंसाफ को अपनी ड्यौढ़ी का गुलाम समझते हैं. जो बार-बार लगातार अपनी हरकतों से पूरी इंसानियत और इंसानों की बस्ती को बदनाम करते हैं. ऐसे लोग होते तो मुट्ठी भर हैं पर बदनाम पूरी बस्ती को कर जाते हैं.

शर्म. गुस्सा. आक्रोश. इस हैवानियत भरी करतूत को देखने के बाद शायद यही वो लफ्ज़ हैं जो जेहन में आते हैं. इस बदमिजाज भीड़ में शामिल ये वो पुलिस वाले हैं. जिन्होंने एक ही साथ मर्यादा, इंसानियत और इंसाफ़ तीनों का क़त्ल किया है. इस वक्त आप अपने टेलीवीजन स्क्रीन पर इंसानियत को तार-तार करने वाली जो शर्मनाक तस्वीरें देख रहे हैं वो कहीं और की नहीं देश की राजधानी दिल्ली की हैं और ये वो लोग हैं जो इस वक्त खुद कानून और खुद ही इंसाफ हैं.

जब जनगण गाते हैं तो खड़े होते हैं. पर ये सड़क पर पड़ा-पड़ा गा रहा है. ना गाए तो शायद जान चली जाए. यहां पांच लोग सड़क पर पड़े दिख रहे हैं. इर्द-गिर्द पुलिस है. पांचों लहुलुहान हैं. एक तो शायद होश में भी नहीं है. लेकिन आसपास खड़े पुलिस वाले इन जख्मी लोगों को जख्म दे-देकर देश प्रेम का पाठ पढ़ा रहे हैं. ये एक तस्वीर किसी का भी कलेजा छलनी कर देने के लिए काफी है. ये एक तस्वीर उस खाकी को बेनकाब करने के लिए काफी है जिसके कांधे पर सभ्य समाज की सभ्यता को कायम रखने की जिम्मेदारी होती है.

मालूम नहीं इंसानियत कब तक इंसानों के हाथों इसी तरह शर्मसार होती रहेगी? मालूम नहीं पर चलिए मान लें कि ये पांचों पत्थरबाज़ हों, पर सड़क पर फैसला करने का हक इन पुलिस वालों को किसने दिया. अगर यही कानून और यही अदालत हैं तो फिर बाकी की अदालतों पर ताला क्यों नहीं लगा दिया जाता?

ये शख्स भीड़ में घिर चुका है. किसी तरह वो उस भीड़ से निकल कर अपनी जान बचाना चाहता है. वो कभी दौड़ता है तो कभी तेज कदमों से भागता है. और फिर जब जख्म और उसका दर्द हद से गुजर जाता है तो हिम्मत हार कर बैठ जाता है. जानवर बने इंसानों को वो अपने जख्म और जख्म से रिसते लहू को दिखा कर उनसे रहम की भीख मांगता है. पर रहम की बजाए उसे मिलती हैं लातें, डंडे, गालियां.

अब जरा इन इंसानों से भी मिल लीजिए. इन्हें देख कर ऐसा नहीं लगता जैसे हम आज भी जंगल राज में जंगली की तरह जी रहे हैं? जरा देखिए लात-घूंसे और डंडों, सरियों से बुरी तरह मार खाने के बाद अपनी बची-खुची हिम्मत समेट कर ये बस किसी तरह इस जंगल से निकलना चाहता है. अब वो आगे-आगे है और इंसान पीछे-पीछे एक निहत्थे शख्स को सरेराह पीटने की. मर्दों की बहादुरी तो आपने देख ली. अब जरा इन लोगों को भी देख लीजिए. इस जंगल में कोई किसी से कम नहीं.

वैसे क्या इस पूरे मामले में खुद पुलिस सबसे बड़ी गुनहगार नहीं है? अगर पुलिस शुरुआत में ही इस मामले में ढिलाई नहीं बरतती तो क्या लोगों को कानून अपने हाथ में लेने की हिम्मत होती?

रविवार से ही पूरे इलाके में तनाव था. फिर पुलिस ने तभी सुरक्षा के पूरे इंतजाम क्यों नहीं किए?

सीएए विरोधी और समर्थकों को एक दूसरे से दूर रखने की कोशिश क्यों नहीं की?

देखते ही देखते इलाके में इतने सारे पत्थर, हथियार कहां से आ गए?

पुलिस की मौजूदगी में पत्थर और गोली कैसे चलती रही?

हेड कांस्टेबल रतनलाल समेत सात इंसानों को ये भीड़ अब तक निगल चुकी है और हम सब खुद को इंसान कहते हैं. खुद के इंसान होने पर फ़ख्र भी करते हैं. पर फिर हम इंसान ही वो हरकत कर बैठते हैं जिन्हें देख और सुन कर हैवान को भी हमसे जलन होने लगती है. आप ही बताइए ये सब देख कर आखिर हैवान क्यों ना जले हम इंसानों से.

By admin1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *